Nauhas for Muharram and all Wafaats
Maatams for Muharram and all Wafaats
Nauhas
   
  तुरबते बेशीर पर कहती थी माँ
Nauhas in various formats Nauhas in various formats Nauhas in various formats Nauhas in various formats Nauhas in various formats Nauhas in various formats Nauhas in various formats Nauhas in various formats Nauhas in various formats
  Nauha in Hindi Print Nauha in Urdu Print Nauha in Hindi
Print Nauha
Translation of Nauha
Listen to Nauha
Download Mobile Audio
View Nauha on YouTube
Nauhas in various formats Nauhas in various formats Nauhas in various formats Nauhas in various formats Nauhas in various formats Nauhas in various formats Nauhas in various formats Nauhas in various formats Nauhas in various formats
 

 

तुरबते बेशीर पर कहती थी माँ असग़र उठो
कब तलक तन्हाई में सोओगे एै दिलबर उठो

है अंधेरा घर में नज़रों में जहाँ तारीक है
कब तलक पिन्हाँ रहोगे ए महे अनवर उठो

हम सबों को कै़द करके अशक़िया ले जाऐगें
किस तरह तन्हा तुम्हें छोड़ेगी यह मादर उठो

गोद खाली देखकर पूछे अगर सुग़रा तुम्हें
क्या कहे इस नातवाँ से मादरे मुज़तर उठो

गोद से मेरी जुदा होते न थे तुम तो कभी
नींद इस सुनसान बन में आ गयी क्योंकर उठो

किसलिए नाराज़ हो आओ मना लूँ मैं तुम्हें
कुछ जुबां से तो कहो सदके़ गयी मादर उठो

दूध दो दिन से न पाया इसलिए रूठे हो क्या
बेकसो मजबबूर है माँ है एै मेरे दिलबर उठो

किस तरह तन्हा अंधेरी रात में नींद आएगी
आओ सीने से लगा लें माँ अली असग़र उठो

हो गई है ज़िन्दगी दुश्वार अब अफकार से
'फिक्र' रौज़े पर चलो बस या अली कहकर उठो

 

Please Recite Fateha for Marhoom - Syed Wirasat Ali Rizvi ibne Syed Mustafa Hussain Rizvi.
| Home | Fikr | Nauhas | Videos | Dictionary | Contact | YouTube | Privacy Policy | Terms & Conditions |